नरेंदर मोदी या वसुंधरा राजे ने नहीं दी लाल बत्ती, जो उतार दूं – हनुमान बेनीवाल

नरेंदर मोदी या वसुंधरा राजे ने नहीं दी लाल बत्ती, जो उतार दूं – हनुमान बेनीवाल

वीवीआईपी कल्चर के खात्मे के लिए लाल-नीली बत्ती हटाने के केंद्र सरकार के आदेश का विरोध करने वाले राजस्थान के नागौर जिले के खिवंसर विधान सभा क्षेत्र से निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल ने अपनी गाड़ी पर लगी लाल बत्ती को हटाने से इनकार कर दिया है। और लाल बत्ती हटाने के मोदी सरकार के निर्णय को विधायक हनुमान बेनीवाल ने चैलेंज किया है । बेनीवाल का कहना है कि मैं अपनी गाड़ी से लाल बत्ती क्यों उतारूं। मुझे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने लाल बत्ती नहीं दी है, जो उतार दू ।

 

उन्होंने कहा है कि भाजपा सरकार को वे काम करने चाहिए, जिससे देश का भला हो। सरकार पहले सर्जिकल स्ट्राइक, नोटबंदी को लेकर जनता को गुमराह कर चुकी है और अब लाल बत्ती के फैसले से एेसा ही कर रही है। लाल बत्ती हटाने जैसे निर्णयों से देश का कोई भला नहीं होनेवाला। उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर इससे देश को क्या मिलेगा? देश के किसान व जवान को क्या मिलेगा ??  देश के किसान कर्ज से और जवान बेरोजगारी  से तंग आकर आत्म हत्या कर रहे हें ।

जनता ने दी है लाल बत्ती  – बेनीवाल 

विधायक हनुमान बेनीवाल का कहना है कि मैं जनता का प्रतिनिधि हूं और मुझे लाल बत्ती लगाने का हक भी जनता ने ही दिया है। उन्होंने कहा कि ये सरकार जनता को भटका कर रही है। भ्रष्टाचार और बेरोजगारी के खिलाफ तो ये सरकार कुछ नहीं कर रही।

 

उन्होंने कहा कि जब देश में लाल बत्ती का नियम सभी के लिए समान रूप से लागू हो जाएगा और सभी लाल बत्ती हटा लेंगे, तो वे भी अपनी गाड़ी से लाल बत्ती हटा लेंगे। उनका कहना है कि वे कानून मानने वालों में से हैं, लेकिन वे एेसा कानून मानते हैं, जो सभी के लिए समान हो।

 

प्रोटोकॉल में विधायक का पद चीफ सेक्रेटरी से ऊपर होता हे  – बेनीवाल 

हालांकि, ये बात अलग है कि विधायक को तो पहले से ही लाल बत्ती लगाने का अधिकार नहीं है। ये केवल केबिनेट मंत्री, राज्यमंत्री और संसदीय सचिव को ही दिया गया था। लाकिन  बेनीवाल का कहना हे की विधायक का पद प्रोटोकॉल में चीफ सेक्रेटरी से ऊपर होता हे इसलिए विधायकों को लाल बत्ती मिलनी चाहिए , इस मुद्दे को बेनीवाल कई बार विधानसभा में भी उठा चुके हे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *