किसान के बेटे को मुख्यमंत्री घोषित करें तो कांग्रेस में जाने को तैयार

इस साल के शुरुआत में बाड़मेर में लाखों लोगों की किसान हुंकार रैली करने वाले ये विधायक हुनमान बेनीवाल ने एक बार फिर जोधपुर व बाड़मेर क्षेत्र के जानादेसर में बड़ी सभा को संबोधित करते हुए लोगों से कहा कि ये आखिरी राउण्ड की लड़ाई है, इसलिए मजबूती बनाए रखें। बेनीवाल ने कहा कि मुझे नागौर, बाड़मेर, जोधपुर, जैसलमेर , बीकानेर , सीकर, चूरू व झुंझुनुं के युवाओं से नई ऊर्जा मिलती है और राजस्थान का नौजवान इस बार न केवल वसुंधरा को लंदन भेजेगा, बल्कि अशोक गहलोतव सचिन पायलट को भी राजस्थान का ताज नहीं पहनने देगा। किसान का बेटा ही राजस्थान का मुख्यमंत्री बनेगा। बेनीवाल ने कहा कि वर्ष 2016 के वीर तेजाजी के मेले के दौरान खरनाल में उन्होंने कांग्रेस से कहा था कि जाट के बेटे को मुख्यमंत्री घोषित कर दे, वे कांग्रेस में शामिल हो जाएंगे। कांग्रेस ने नहीं किया। अब लोग कह रहे हैं कि हनुमन बेनीवाल कांग्रेस को कमजोर कर रहे हैं, लेकिन मैं यह कहता हूं कि मैं कांग्रेस को कमजोर नहीं कर रहा, बल्कि राजस्थान के युवा व किसान को मजबूत कर रहा हूं, उन्हें जागरूक कर रहा हूं। कांग्रेस को यदि डर है तो एक बार मैं दो महीने का समय देता हूंं, जून तक कांग्रेस किसान के बेटे को मुख्यमंत्री घोषित करे, मैं कांग्रेस के साथ हो जाऊंगा।
बेनीवाल ने कहा कि पहले दलित जातियां जाटों के साथ थी, लेकिन जाटों के ही नेता एकजुट और संगठित नहीं थे और न ही उन्होंने किसी का भला किया, इसलिए उन्होंने (दलितों) किनारा कर लिया। आज वे मुझे कहते हैं यदि जाट संगठित हो जाए तो दूसरी जातियां भी उन्हें समर्थन देने को तैयार हैं। हमारे नेताओं ने न तो शिक्षा पर ध्यान दिया और न ही रेगीस्तानी क्षेत्र में पानी लाने का प्रयास किया। सिंचाई के लिए मीठा पानी लाना तो दूर उन्होंने पीने का पानी ला पाए। उन्होंने कहा कि नेताओं की नीयत में खोट थी, वे यह सोचते थे कि यदि सारे लोग जागरूक हो गए तो हमारी दरी-पट्टी कौन बिछाएगा।

 

जवानों ने वसुंधरा से लडऩे का सम्बल दिया
बेनीवाल ने कहा कि भाजपा की पिछली सरकार में उनकी वसुंधरा राजे से नहीं बनी। उन्होंने वसुंधरा पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए, जो पार्टी के गले नहीं उतरे। इसलिए उन्होंने पार्टी छोड़ दी। कुछ लोगों ने हनुमान बेनीवाल, वसुंधरा से लड़ रहा है, कहां टिकेगा, लेकिन राजस्थान के जवानों ने उन्हें सम्बल दिया और वे आज भी मजबूती से लड़ाई लड़ रहे हैं।

 

 

मोकाण जाने वाले नेताओं की छुट्टी करेंगे
बेनीवाल ने कहा कि आज नेताओं एवं मंत्रियों से कोई काम तो होता नहीं, वे बस शादी समारोह एवं मोकाण जाने के लिए फिरते रहते हैं। इसलिए इस बार राजस्थान का युवा मोकाण जाने वाले नेताओं की छुट्टी करने वाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *